आज हम आपको बताने जा रहे है B.Ed Kya Hai और इसके साथ ही आपको हम यह भी बताएँगे की B.Ed Kya Haiअगर आप भी D.Ed या B.Ed करना चाहते है तो आप बिल्कुल सही पोस्ट पढ़ रहे है। क्योंकि आज आपको हम D.Ed और B.Ed की पूरी जानकारी देंगे।
B.Ed Karne Ke Fayde यह भी आज आप इस पोस्ट के माध्यम से जानेंगे। और हम आपको यह बिल्कुल सरल भाषा में समझाएँगे। आशा करते है की आपको हमारी सभी पोस्ट पसंद आ रही होगी। और इसी तरह आप आगे भी हमारे ब्लॉग पर आने वाली सारी पोस्ट पसंद करते रहे।
आज के समय में शिक्षा का कितना महत्व है यह तो आप सभी जानते होंगे। हर व्यक्ति का कुछ ना कुछ बनने का सपना होता है। और अपनी पसंद के अनुसार पढ़ाई करके उसमें भविष्य बनाने के लिए मेहनत भी करनी होती है। तभी आप अपना सपना पूरा कर सकते है और सफल हो सकते है।

शिक्षा देश के विकास के लिए बहुत आवश्यक है। टीचर ऐसा होना चाहिए जो बच्चों को सही शिक्षा दे। शिक्षा के क्षेत्र में टीचर का सबसे ज्यादा योगदान होता है। क्योंकि शिक्षक जैसा पढ़ेंगे वैसी ही शिक्षा छात्रों को भी देंगे। अगर आप भी एक अच्छे टीचर बनना चाहते है और पढ़ाना आपको पसंद है तो आप D.Ed या B.Ed कर सकते है और बच्चों का भविष्य उज्जवल बना सकते है।
तो आइये जानते है B.Ed Kya Hota Ha अगर आप भी D.Ed या B.Ed करने के बारे में सोच रहे है तो यह पोस्ट D.Ed Kya Hai/B.Ed Kya Hai Kaise Kare शुरू से अंत तक ज़रुर पढ़े। तभी आपको इसकी पूरी जानकारी प्राप्त होगी।

D.Ed Kya Hai

यह एक डिप्लोमा कोर्स होता है इस कोर्स को करने के बाद आप प्राइमरी 1st To 8th क्लास के टीचर बन सकते है। इस कोर्स को करने के बाद आप एक अच्छे प्राइमरी टीचर बन सकते है। D.Ed Course में Classroom Based Teaching के अलावा Practical, Internship, Training भी शामिल है। साथ ही इस कोर्स में बच्चों को पढ़ाने के लेटेस्ट मेथड सिखाये जाते है।
D.Ed कोर्स करने के दौरान D.Ed में अध्ययनरत विद्यार्थियों को Internship के लिए किसी भी स्कूल में प्राइमरी के बच्चों को पढ़ाना होता है। इस कोर्स को करने के बाद आप किसी भी प्राइवेट या सरकारी स्कूल में पढ़ाने के लिए योग्य हो जाएँगे।
D.Ed करने के बाद स्कूल में पढ़ाने के लिए Teacher Eligibility Test या Central Teacher Eligibility Test (CTET) को Clear करना होता है। CTET Central लेवल पर होता है। इसे पास करने के बाद आप भारत में किसी भी स्कूल में 1st To 8th क्लास के बच्चों को पढ़ा सकते है।
TET State लेवल की एग्जाम होती है जिसे पास करने के बाद आप किसी Particular State के किसी भी स्कूल में 1st To 8th तक के बच्चों को पढ़ा सकते हैं।
CTET और TET के दो पेपर होते है। पहला पेपर पास करने के बाद आप 1st से 5th क्लास तक के बच्चों को पढ़ा सकते है। और दूसरा पेपर पास करने के बाद आप 6th से 8th क्लास तक पढ़ाने के योग्य हो जाते है।

D.Ed Full Form

Diploma In Education

D.Ed Kitne Saal Ka Course Hai

यह 2 साल का कोर्स होता। जिसे Regular Mode में किया जाता है। D.Ed का Exam Pattern Yearly होता है। इस कोर्स को आप 12 वीं के बाद कर सकते है।

D.Ed Kaise Kare

D.Ed करने के लिए आपकी कुछ योग्यता होना चाहिए। उसके बाद आप D.Ed कर सकते है जानते है D.Ed करने की क्या योग्यता है:

नमस्ते, मेरा नाम नीरज जीवनानी है, मैं हिंदी सहायता का संस्थापक हूँ। मैं उम्मीद करता हूँ आपको हमारा काम इस वेबसाइट पर पसंद आ रहा होगा। हम दिन रात मेहनत करके पूरी टीम के सहयोग से यह साइट को चलाते है और आप तक बेहतरीन, एक से बढ़कर एक आर्टिकल्स पहुंचाने का प्रयास करते है। हिंदी सहायता को एक नयी ऊंचाई पर ले जाने के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए, हमने अभी हिंदी सहायता का एक मोबाइल एप्प लॉन्च किया है, इस एप्लीकेशन को आप यहां से डाउनलोड कर सकते है।यहाँ पर आप सभी महत्वपूर्ण जानकारियाँ सबसे पहले हासिल कर पाएंगे तो कृपया आप हमारा एप्प इनस्टॉल करके हमारा साथ ज़रूर दे ताकि हम आप तक हमेशा सभी महत्वपूर्ण आर्टिकल्स पहुँचाते रहे।

 

  • D.Ed करने के लिए आप 12Th क्लास पास होना चाहिए।
  • 12 Th क्लास में 50% होना चाहिए। SC, ST के लिए यह 45 % हो सकते है।
  • इस कोर्स के लिए न्यूनतम आयु 17 वर्ष और अधिकतम आयु 35 वर्ष हो सकती है।

D.Ed के लिए Apply कैसे करे

D.Ed करने के लिए बहुत से कॉलेज द्वारा Entrance Exam ली जाती है। इसके बाद काउंसलिंग होती है। और Percent के आधार पर कॉलेज मिलता है।
इस कोर्स में आप Entrance Exam के बिना भी एडमिशन ले सकते है। इसके लिए आपको काउंसलिंग का फॉर्म डालना होता है। काउंसलिंग में 12th के Marks के आधार पर आपको कॉलेज मिलेगा।

B.Ed Kya Hai

अगर आप सरकारी स्कूल में टीचर बनना चाहते है तो आपको B.Ed Course करना ज़रुरी होता है। और अब सरकार के द्वारा घोषणा की गई है की 2019 तक निजी टीचर हो या सरकारी टीचर दोनों के लिए B.Ed की डिग्री होना ज़रुरी है।
यह एक पोस्ट ग्रैजुएट कोर्स है जिससे आप स्कूल में विद्यार्थियों को शिक्षा दे सकते है। इस कोर्स को आप तभी कर सकते है जब आपका ग्रेजुएशन पूरा हो जाता है।

B.Ed Ka Full Form

Bachelor Of Education 

B.Ed Ke Liye Qualification

B.Ed करने के लिए आपके पास किसी भी Subject में ग्रेजुएशन होना ज़रुरी होता है। आप किसी भी Subject में ग्रेजुएशन करने के बाद यह कोर्स कर सकते है।

B.Ed Karne Ke Liye Kitne Percentage Chahiye

B.Ed कोर्स करने के लिए आपको कम से कम 50 प्रतिशत अंकों के साथ स्नातक पास होना चाहिए। और आपने स्नातक मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से किया हो।

B.Ed Kitne Saal Ka Course Hai

B.Ed 2 साल का स्नातक कोर्स है। अगर आप यह 2 साल का कोर्स कर लेते है तो आप स्कूल में शिक्षक के रूप में छात्रों को पढ़ा सकते है।

B.Ed Course Kaise Kare

B.Ed करने के लिए आपको सबसे पहले एक प्रवेश परीक्षा देनी होती है। उसके बाद काउंसलिंग की जाती है। काउंसलिंग में उम्मीदवार को रैंक के अनुसार कॉलेज मिलते है।
कुछ राज्यों में ग्रेजुएशन के प्रतिशत के आधार पर B.Ed में एडमिशन दिया जाता है। तो कुछ राज्यों में इसके लिए प्रवेश परीक्षा कराई जाती है आप किसी भी सरकारी और प्राइवेट कॉलेज से B.Ed कर सकते है जाता है और जून-जुलाई महीने में आयोजित की जाती है।

B.Ed Me Kitne Subject Hote Hai

B.Ed में आपको क्या-क्या सब्जेक्ट पढ़ने होते है इसके बारे में हम आपको आगे बता रहे है। तो जानते है B.Ed Ke Subject क्या है:

  • मार्गदर्शन और परामर्श
  • शैक्षणिक मनोविज्ञान
  • शिक्षा संस्कृति और मानव मूल्य
  • शैक्षिक मूल्यांकन और आकलन
  • समग्र शिक्षा
  • शिक्षा का दर्शन

B.Ed Karne Ke Fayde

अगर आप B.Ed करते है तो आपको इसके फायदे भी प्राप्त होते है। तो जानते है इसके फ़ायदों के बारे में:

  • B.Ed करने के बाद आप किसी भी सरकारी या प्राइवेट स्कूल में टीचर बन सकते है।
  • यह कोर्स करने के बाद आप छात्रों को शिक्षित करने के साथ ही अपना ज्ञान भी बढ़ा सकते है।
  • अगर आप B.Ed करते है तो आपको अच्छा वेतन मिलता है।
  • यह एक सम्मान-जनक नौकरी है।

Difference Between B.Ed And D.Ed In Hindi

B.Ed और D.Ed में निम्नलिखित अंतर पाए जाते है। आगे आप इन दोनों में क्या अंतर होते है यह जान सकते है:

  • B.Ed ग्रेजुएशन के बाद किया जाता है। और D.Ed को 12 Th पास करने के बाद भी किया जा सकता है।
  • यदि आप B.Ed करते है तो इसमें Vacancy ज्यादा निकलती है। लेकिन D.Ed के लिए इतनी Vacancy नहीं निकलती।
  • B.Ed करने के बाद अगर आप टीचर बनते है तो आपका वेतन अधिक होता है। D.Ed का वेतन B.Ed से कम होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here