आज हम आपको बताएँगे की DM Kaise Bane क्या आप भी डी एम बनने की तैयारी कर रहे है। और जानना चाहते है की डी एम बनने की तैयारी कैसे करे तो आप बिल्कुल सही पोस्ट पढ़ रहे है। इस पोस्ट के जरिये आपको हम इसकी पूरी जानकारी देंगे।

DM Ke Karya आज आपको इस पोस्ट के जरिये जानने को मिलेंगे। और आपको हम यह बिल्कुल आसान भाषा में समझाएँगे। आशा करते है की आपको हमारी सभी पोस्ट पसंद आ रही होगी। और हमें उम्मीद है की आप आगे भी हमारे ब्लॉग पर आने वाली सारी पोस्ट पसंद करते रहे।
आज प्रत्येक युवा चाहता है की वह किसी बड़े पद पर कार्य करे। और अगर बात डी एम बनने की हो तो हर युवा डी एम बनना ज़रुर चाहेगा। डी एम का पद बहुत बड़ा और Power Full होता है। और इस पद में बहुत सम्मान भी मिलता है। और डी एम को कई सारे अधिकार भी प्राप्त होते है।Sub Inspector Kya Hai? Sub Inspector Ke Liye Qualification? Sub Inspector Ki Taiyari Kaise Kare?

अगर आप भी डी एम बनने की इच्छा रखते है। और इसकी तैयारी में भी लगे है तो आज की यह पोस्ट पढ़ना आपके लिए बहुत ज़रुरी है। इसमें आपको डी एम बनने से जुड़े सारे सवालों के जवाब मिल जाएँगे। और आप अच्छी तरह से इसकी तैयारी भी कर पाएँगे।
आइये अब जानते है District Magistrate In Hindi की पूरी जानकारी जो आज आपको हमारी इस पोस्ट DM Kaise Bane In Hindi के माध्यम से मिलेगी। तो इसके लिए यह पोस्ट शुरू से अंत तक ज़रुर पढ़े।Bhartiya Vayu Sena Bharti Kaise Hote Hai? Bhartiya Vayu Sena Me Kaise Jaye? इंडियन एयरफोर्स भर्ती 2019-20 में शामिल होने के लिए योग्यता व परीक्षा!

 

DM Kya Hota Hai

डी एम जिला अधिकारी को कहा जाता है। जिसे जिले का मुखिया भी कहते है। जो अपने जिले की सुरSchool UDISE Code Online Kaise Check Kare? – UDISE कोड क्या होता है व इसे ऑनलाइन कैसे चेक करते है!क्षा व सेवा करता है। District Magistrate को District Collector भी कहते है।

तथा इन्हें जिला न्यायाधीश भी कहा जाता है। प्रत्येक जिले में एक न्यायालय होता है। न्यायालय में जो न्यायाधीश होते है उन्हें जिला न्यायाधीश कहते है।UGC Net Ki Taiyari Kaise Kare? – यूजीसी नेट 2019 परीक्षा के लिए योग्यता, सिलेबस व परीक्षा प्रारूप!

DM Kaise Bane

आइये अब आपको आगे बताते है District Magistrate Kaise Bane इसके लिए क्या योग्यता होना चाहिए, आयु सीमा क्या होना चाहिए। ये सभी जानकारी आपको हम Details में बताने वाले है।

डी एम बनने के लिए योग्यता

District Magistrate बनने के लिए उम्मीदवार का किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन होना चाहिए। Graduation Pass होने के बाद ही आप डी एम बनने की तैयारी कर सकते है।

 

डी एम बनने के लिए आयु

जिला न्यायाधीश बनने के लिए प्रत्येक वर्ग के लिए अलग-अलग आयु सीमा निर्धारित की गई है। General वर्ग के लिए आयु सीमा 21 वर्ष से 30 तक रखी गई है। OBC वर्ग के लिए आयु सीमा 21 वर्ष से 33 वर्ष तक रखी गई है 3 साल की छूट के साथ। SC/ST वर्ग के लिए 21 वर्ष से 35 वर्ष तक रखी गई है, 5 साल की छूट के साथ।

डी एम बनने की चयन प्रक्रिया

District Magistrate बनने के लिए उम्मीदवार को UPSC में होने वाली CSE( सिविल सर्विस एग्जाम) पास करना होती है। इसके बाद आपका IAS के लिए चयन किया जाता है। इसके बाद आप IAS अधिकारी बनते है। तथा पदोन्नति होने पर IAS अधिकारी को जिला न्यायाधीश बनाया जाता है।

 

डी एम परीक्षा पैटर्न (DM Exam Pattern)

जिला न्यायाधीश बनने के लिए आपको UPSC पास करना होती है। इसमें आपको CSE की परीक्षा देना होती है। जो 3 चरणों में होती है, जिसके बारे में आपको नीचे बताया गया है।

 

  • प्रारंभिक परीक्षा

UPSC के लिए Apply करने के बाद आपको प्रारंभिक परीक्षा पास करना होती है। यह पहला चरण होता है।

  • मुख्य परीक्षा

प्रारंभिक परीक्षा में पास होने के बाद आपको मुख्य परीक्षा देनी होती है। और यह दूसरा चरण होता है। जो उम्मीदवार प्रारंभिक परीक्षा में पास होते है वह मुख्य परीक्षा में भाग लेते है। और यह अंतिम परीक्षा होती है। इसके बाद आपका Interview लिया जाता है।

  • साक्षात्कार

लिखित परीक्षा में पास होने के बाद आपका Interview होता है। जिसमें आपसे कुछ सवाल किये जाते है। जिसके आधार पर ही आपका चयन होता है।

 

डी एम की तैयारी कैसे करे

  • आपको अपना General Knowledge बढ़ाना होगा। इसके लिए Books पढ़े। और Daily News Paper पढ़े।
  • आपको इसके लिए कानूनी जानकारी होना ज़रुरी है। तो आप Law की Books भी पढ़े।
  • तथा आप पिछले साल के प्रश्न पत्र का भी सहारा ले सकते है, इसमें आपको डी एम की तैयारी की जानकारी भी मिल जाएगी।

DM Ke Karya

आइये अब जानते है डी एम के कार्य के बारे में की डी एम के क्या कार्य होते है:

  • डी एम का कार्य कानून व्यवस्था को बनाये रखना है। यह कानून व्यवस्था को बनाये रखता है।
  • वार्षिक अपराध की सरकार को Report देना।
  • पुलिस और जेलों का निरीक्षण करता है।
  • सभी कार्यों की मंडल आयुक्त को जानकारी देना।
  • जब मंडल आयुक्त उपस्थित नहीं होते है, तो जिला विकास प्राधिकरण के पद पर अध्यक्ष के रूप में कार्य करते है।
  • साथ में कार्य करने वाले मजिस्ट्रेटों का निरीक्षण करना।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here